इस TEST से पता लगाएं कि आप DEPRESSION में हैं या नहीं…!!!

depression1

कई बार हम डिप्रेशन में होते हैं, मगर इसे समझ नहीं पाते हैं। समय के साथ कई बार समस्या खत्म होने लगती है, लेकिन बहुत बार परेशानी बढ़ती जाती है। यहां कुछ ऐसे प्रश्न पूछे गए हैं जिनके आधार पर जान सकते हैं कि आप डिप्रेस्ड हैं या नहीं। जवाब देते वक्त पिछले दो हफ्ते में मूड या व्यवहार कैसा था, इसे ध्यान में रखिए।

पिछले दो सप्ताह के अनुभव के आधार पर इन सवालों के जवाब ‘नहीं’, ‘हां’ और ‘शायद’ के रूप में दीजिए।

1. बिना किसी कारण के रोने का मन करता है या चिड़चिड़ा महसूस करते हैं ?

2. मुड खराब होने के कारण ऑफिस या काम पर जाने का मन नहीं करता ?

3. फिल्म, म्यूज़िक, फ्रेंड्स या हॉबी के प्रति रुझान कम होना ?

4. पूरा दिन बेचैनी महसूस करना और रात को नींद न आना ?

5. लाइफस्टाइल में कोई बदलाव नहीं आना, लेकिन वज़न बढ़ने लगना ?

6. ऑफिस या घर में पहले की तुलना में ज़्यादा असुरक्षित महसूस करना ?

7. लगने लगे कि ज़िंदगी में विफल हो चुके हैं या किसी की उम्मीदों पर खरे नहीं
उतर रहे हैं ?

8. पहले सारा काम समय पर पूरा हो जाता था, लेकिन पिछले 1 महीने में आप 3-4 वर्क
डेडलाइन मिस कर चुके हैं ?

9. दोस्तों से मिलना, ब्याह-शादी पर इसलिए न जाना, क्योंकि आपका किसी से मिलने का मन नहीं हो रहा है।

10. आशाहीन हो चुके हैं और कई बार सुसाइड करने का मन करता है ?

depression4

7 या इससे ज़्यादा प्रश्नों का जवाब हां है तो-

आपके क्लिनिकली डिप्रेस्ड होने की आशंका हो सकती है। समय बर्बाद किए बिना प्रोफेशनल डॉक्टर को दिखाएं। जैसे-जैसे समय बीतेगा, समस्या गंभीर होती जाएगी।

7 से कम प्रश्नों का जवाब हां है, तो-

आप क्लिनिकली डिप्रेस्ड नहीं हैं। किसी प्रोफेशनल डॉक्टर की ज़रूरत नहीं है। महीने में एक बार इस टेस्ट को दोहराएं। इससे मानसिक स्थिति का पता चेलगा।

depression2

डिप्रेशन क्या है ?

जीवन में कभी-कभार लो फील करना एक सामान्य बात है, लेकिन जब ये एहसास बहुत समय तक बना रहे और आपका साथ ना छोड़े तो ये डिप्रेशन या अवसाद हो सकता है।
ऐसे में जीवन बड़ा नीरस और खाली-खाली सा लगने लगता है। न दोस्त अच्छे लगते हैं और न ही किसी और काम में मन लगता है। लाइफ में पॉज़िटिव बातें भी नेगेटिव लगने लगती हैं।

यदि आपके साथ भी ऐसा होता है, तो घबराने की ज़रूरत नहीं है। ज़रूरत है डिप्रेशन के लक्षणों और कारणों को समझने की और फिर उसका इलाज करने की।

डिप्रेशन के लक्षण:

1- या तो आपको नींद नहीं आती या बहुत अधिक नींद आती है।

2- आप ध्यान नहीं केंद्रित कर पाते और जो काम आप पहले आसानी से कर लेते थे, उन्हें करने में कठिनाई होती है।

3- आपको लगता है कि आप अकेले हैं और आपकी मदद करने के लिए कोई नहीं है।

4- आप चाहे जितनी कोशिश करें, पर अपनी नेगेटिव सोच पर काबू नहीं रख पाते।

5- या तो आपको भूख नहीं लगती या आप बहुत ज्यादा खाते हैं।

6- आप पहले से कहीं जल्दी परेशान हो जाते हैं और गुस्सा करने लगते हैं।

7- आप ज़्यादा शराब पीते हैं।

8- आपको लगता है कि ज़िंदगी जीने लायक नहीं है और आपके मन में आत्महत्या करने के विचार आते हैं। ( ऐसा है तो तुरंत इलाज कराएं)

depression

डिप्रेशन के कारण:

कुछ बीमारियों के कारण जानने के बाद इलाज आसान हो जाता है। जैसे डायबिटीज़ है, तो इन्सुलिन लें, पथरी है तो सर्जरी करवाएं, लेकिन डिप्रेशन थोड़ी जटिल बीमारी है। डिप्रेशन सिर्फ मस्तिष्क में हो रहे केमिकल इम्बैलेंस की वजह से ही नहीं, बल्कि कोई अन्य जैविक, मनोवैज्ञानिक और सामाजिक कारणों से भी हो सकता है। दूसरे शब्दों में कहें तो ये आपकी लाइफस्टाइल, आपके रिश्ते, आप समस्याओं को कैसे हैंडल करते हैं, इन बातों की वजह से भी हो सकता है। पर निम्नलिखित की वजह से डिप्रेशन होने के चांसेस बढ़ जाते हैं।

1- अकेलापन।

2- दोस्तों और परिवार के सपोर्ट की कमी।

3- हाल में हुए तनावपूर्ण अनुभव।

4- वैवाहिक या अन्य रिश्तों में खटास।

5- खराब बचपन।

6- शराब या अन्य नशीली दवाओं का सेवन।

7- बेरोज़गारी।

8- काम का प्रेशर।

इस तरह डिप्रेशन से निजात पाएं:

1- रिश्तों में सुधार ला कर।

2- रोज़ व्यायाम करके।

3- भरपूर भोजन करके।

4- खुद को एंटरटेन करके।

5- नकारात्मक सोच बदल कर।

6- खुद से स्ट्रेस को दूर रखकर।

7- ज़रूरत से ज़्यादा इमोशनल होने से बचें।

8- डिप्रेशन शब्द का प्रयोग कम से कम करें।

9- छोटी-मोटी परेशानियों को भुला दें।

10- कुछ अच्छा पढ़ें, जो आपके अंदर पॉज़िटिव फीलिंग लाए।

11- नकारात्मक सोच रखने वालों से दूरी बना कर रखें।

12- इस बात को समझें कि ज़िंदगी में जब तक फेल नहीं होंगे, तब तक कुछ सीखेंगे नहीं। इसलिए असफलता को लाइफ का अंत न समझें।

depression3

डिप्रेशन से आत्महत्या की ओर :

बहुत ज्यादा डिप्रेशन की वज़ह से व्यक्ति आत्महत्या करने तक की सोच सकता है। डिप्रेशन के दौरान व्यक्ति खुद को बिल्कुल असहाय महसूस कर सकता है और उसे सभी समस्याओं का हल अपनी ज़िंदगी खत्म करने में नज़र आने लगती है।
यदि कोई आपसे आत्महत्या करने जैसी बातें करता है तो संभवतः वो डिप्रेशन से ग्रसित है और वो सिर्फ आपको अपनी बात ही नहीं बता रहा है, बल्कि वो मदद के लिए भी कह रहा है। आपको उसकी मदद ज़रूर करनी चाहिए और यदि आप खुद को ऐसा करते देख रहे हैं तो बिना देरी किए आपको डॉक्टर की मदद लेनी चाहिए।

यदि आप किसी में इन बातों को देखते हैं तो वो आत्महत्या के लिए चेतावनी हो सकती है:

1- अपने को मारने या ख़त्म करने के बारे में बात करना।

2- अचानक ही लोगों को गुडबाय करने के लिए मिलना या फोन करना।

3- बिना वजह अपनी संपत्ति या दूसरी चीजों को दूसरों को देना।

4- ऐसी भावनाएं व्यक्त करना जिससे व्यक्ति बहुत ही असहाय और उलझा हुआ प्रतीत हो।

5- हमेशा मरने संबंधी बातें करना।

6- असामान्य व्यवहार करना।

7- असामान्य बातें करना।

8- अचानक ही एकदम डिप्रेस्ड होना और फिर ख़ुशी जाहिर करने लगना।

===============================================

और भी पढ़िए….!!! 

धरती का अमृत पानी पीने के 10 फायदे और नुकसान ज़रूर जाने…नही जाना तो क्या जाना…!!!
ખાસ પ્રયોગ….!!! 15 દિવસમાં કેવા પણ સફેદ વાળ થશે પ્રાકૃતિક કાળા….
कमायें लाखों YOUTUBE से…!!! अब आप पूछेंगे कैसे? इसका तरीका मैं बता रहा हूँ.
इबोला: जिस वायरस को नज़रअंदाज करना सबको भारी पड सकता है…!!! वर्तमान समय की एक गंभीर बीमारी और एक अत्यंत घातक रोग..!!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s